Category: <span>ओपिनियन</span>

Home ओपिनियन
सबकुछ बिकने और बेचे जाने के दौर में फिल्म ‘मंथन’ देखनी चाहिए
Post

सबकुछ बिकने और बेचे जाने के दौर में फिल्म ‘मंथन’ देखनी चाहिए

सहकारिता समाजवाद का गोमुख है। एक समतावादी समाज का निर्माण उसके सदस्यों के पारस्परिक सहयोग और भाईचारा से ही सम्भव है। प्राकृतिक संसाधनों और उससे निर्मित उत्पादों का नियंत्रण एवं नियमन समाज के सदस्यों द्वारा किए जाने पर ही प्रत्येक व्यक्ति को उसके योगदान के अनुरूप प्रतिफल प्राप्त हो सकता है। सभ्यता के प्रारंभिक मंज़िल...

महबूब खान की फिल्म ‘मदर इंडिया’ हर किसी को क्यों देखनी चाहिए!
Post

महबूब खान की फिल्म ‘मदर इंडिया’ हर किसी को क्यों देखनी चाहिए!

भारत में स्त्रियों की स्थिति पितृसत्ता के अधीन विरोधाभासी और द्वंद्वात्मक रही है। समय के साथ इसमें परिवर्तन होता रहा और पूर्व कालों की दृष्टि से आज उसकी स्थिति अधिक लोकतांत्रिक कही जा सकती है। उनकी यह स्थिति समाज सापेक्ष और वर्ग सापेक्ष भी रही है। कृषक और श्रमिक वर्ग में स्त्रियां अपेक्षाकृत अधिक अधिकार...

स्वामी सहजानंद : तीसरी दुनिया के जनांदोलनों के ऑर्गेनिक इंटेलेक्चुअल
Post

स्वामी सहजानंद : तीसरी दुनिया के जनांदोलनों के ऑर्गेनिक इंटेलेक्चुअल

अभी हाल में सवर्ण जाति के लोगों के नरंसहार, सेनारी नरसंहार, के अभियुक्त साक्ष्य के अभाव में अदालत से बरी हो गए। अब तक पिछड़ी व दलित जातियों के नरसंहार के सवर्ण आरोपी ही दोषमुक्त होते रहे हैं। लेकिन पहली बार सवर्ण जाति के किसानों के नरसंहार के अभियुक्तों (मुख्यतः पिछड़े-दलित तबके से आने वाले)...

प्यासा: ये महलों, ये तख्तों, ये ताजों की दुनिया…ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है
Post

प्यासा: ये महलों, ये तख्तों, ये ताजों की दुनिया…ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है

कवि (शाइर) होने की पहली शर्त संवेदनशीलता है। जो व्यक्ति संवेदनशील न हो, जिसे अपने आस-पास की दुनिया की विडम्बनाएं झकझोरती न हों, जो दूसरों के दुःख को देखकर बेचैन न हो जाता हो, वह और चाहे जो कुछ भी हो कवि नहीं हो सकता। कलाकार की यही संवेदनशीलता कुछ हद तक उसे ‘असमान्य’ बना...

मोदी सरकार ने UAPA कानून को बनाया हथियार, मुसलमानों के खिलाफ सबसे ज्यादा इस्तेमाल
Post

मोदी सरकार ने UAPA कानून को बनाया हथियार, मुसलमानों के खिलाफ सबसे ज्यादा इस्तेमाल

ग़ैर कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार किए गए पिंजरा तोड़ संगठन की कार्यकर्ताओं देवांगना कलीता, नताशा नरवाल और जामिया के छात्र आसिफ इक़बाल तन्हा को दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा ज़मानत फिर इस फैसले को दिल्ली पुलिस द्वारा सुप्रीम कोर्ट में चुनौती ने इस कानून को लेकर एक नई बहस छेड़ दी है।...

कम्युनिस्ट नैतिकता के बिना आर्थिक समाजवाद मुझे आकर्षित नहीं करता
Post

कम्युनिस्ट नैतिकता के बिना आर्थिक समाजवाद मुझे आकर्षित नहीं करता

पीठ पर बंधे थैले के वजन से दब कर वे जमीन पर गिर पड़े। किसी तरह बैठने के बाद थैले को उन्होंने मुश्किल से उतारा। अपनी डायरी के लिए थैले के अंदर हाथ डाल टटोला। थैले के बाकी चीजों के बीच डायरी थोड़ी छुपी सी थी। उन्होंने इलाके के भौगौलिक नक्शे को पीछे किया। इस...

फिल्मों में मुसलमान और अरब को आमतौर पर बदमाश दिखाने की परम्परा क्यों रही है?
Post

फिल्मों में मुसलमान और अरब को आमतौर पर बदमाश दिखाने की परम्परा क्यों रही है?

बॉलीवुड में मुसलमान करैक्टर को आमतौर पर विलेन या बदमाश दिखाने की परम्परा रही है। हालांकि, हॉलीवुड जो अपने आपको सबसे मैच्योर कहता है इस दकियानूसी से परे नहीं है। कई लोगों को लगता है कि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और पेंटागन पर 9/11 हमले के बाद से ये शुरू होता है। लेकिन यह सोच सही...

किशोरी प्रसन्न सिंह : एक ईमानदार और सच्चा स्वतंत्रता सेनानी
Post

किशोरी प्रसन्न सिंह : एक ईमानदार और सच्चा स्वतंत्रता सेनानी

सात दिसंबर 1920 को महात्मा गाँधी हाजीपुर आने वाले थे। जहाँ उनकी सभा होनी थी, स्टेशन से वहाँ तक जाने का रास्ता ठीक नहीं था। उस रास्ते को ठीक करने के लिए छात्रों का एक समूह अपने शिक्षक के नेतृत्व में लगभग तीस किलोमीटर दूर से सभा के एक दिन पहले यानी छह दिसंबर को...

वेलेंटाइन डे और पप्पू जी
Post

वेलेंटाइन डे और पप्पू जी

प्रेम का आयातित पर्व ‘वेलेन्टाइन डे’ जैसे-जैसे निकट आता जा रहा था, पप्पू जी के दिल का रोमांच दिन-दूनी और रात चौगुनी गति से बढ़ता जा रहा था। पप्पू जी के पिता जी दिल्ली के खेल विभाग में अधिकारी थे और फिलहाल कॉमनवेल्थ घोटाले की वजह से तिहाड़ जेल में कैद थे। उनकी मां एक...

पत्रकारिता और लोकतंत्र समर्थकों को न्यूजक्लिक पर हुए हमले की निंदा करनी चाहिए
Post

पत्रकारिता और लोकतंत्र समर्थकों को न्यूजक्लिक पर हुए हमले की निंदा करनी चाहिए

मैं पत्रकारों पर हमले, कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी के बारे में पढ़ती रही हूँ और देख रही हूँ कि असहमति के सभी लोकतांत्रिक जगहों को कैसे समाप्त किया जा रहा है। 2010 से 2020 के बीच 150 से अधिक पत्रकारों को गिरफ्तार किया गया, हिरासत में लिया गया और उनसे पूछताछ की गई, पत्रकार...