Category: <span>ओपिनियन</span>

Home ओपिनियन
गुरु दत्त साहब जैसा अद्वितीय शैलीकार, रचनाकार और कलाकार कोई दूसरा न हुआ
Post

गुरु दत्त साहब जैसा अद्वितीय शैलीकार, रचनाकार और कलाकार कोई दूसरा न हुआ

“अल गैहान का एक शजरपरवाज भरती हयातअहद के उस रजनीऐसा खोया कीउसकी फिर सहर न हो सकीउसे तो ‘प्यासा’ जाना था छोड़कर” जी हाँ! हम बात कर रहे हैं अद्वितीय शैलीकार, रचनाकार, कलाकार, गुरु दत्त साहब की। नर्तक, कोरियोग्राफर से होते हुए लेखक, अभिनेता, निर्माता, निर्देशक के बहुविध कला यात्रा के मुक्कमल यात्री की। आज...

सोशल मीडिया पर FREE के चक्कर में कहीं प्रोडक्ट तो नहीं बनते जा रहे हैं आप?
Post

सोशल मीडिया पर FREE के चक्कर में कहीं प्रोडक्ट तो नहीं बनते जा रहे हैं आप?

कोरोना के बढ़ते मामले और ऐप्स और ऑनलाइन चीजों पर बढ़ती हमारी निर्भरता किस हद तक हमें कमजोर कर रही है इसका अंदाजा हममें से शायद ही कुछ लोग लगा पाते हों। हाल ही में आए एक रिपोर्ट के मुताबिक, हम भारतीय अपने दिन के 4.42 घंटे यानी तकरीबन 265.2 मिनट सोशल मीडिया का इस्तेमाल...

फिल्मों में मुसलमान और अरब को आमतौर पर बदमाश दिखाने की परम्परा क्यों रही है?
Post

फिल्मों में मुसलमान और अरब को आमतौर पर बदमाश दिखाने की परम्परा क्यों रही है?

बॉलीवुड में मुसलमान करैक्टर को आमतौर पर विलेन या बदमाश दिखाने की परम्परा रही है। हालांकि, हॉलीवुड जो अपने आपको सबसे मैच्योर कहता है इस दकियानूसी से परे नहीं है। कई लोगों को लगता है कि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और पेंटागन पर 9/11 हमले के बाद से ये शुरू होता है। लेकिन यह सोच सही...

ममता बनर्जी क्यों कर रही हैं कांग्रेस पर हमला? ये है असल राजनीति
Post

ममता बनर्जी क्यों कर रही हैं कांग्रेस पर हमला? ये है असल राजनीति

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बीते कुछ दिनों से लगातार कांग्रेस पर हमले कर रही हैं। ममता जहां भाजपा पर कम हमले करती हैं। वहीं, कुछ दिनों से कांग्रेस पर अधिक अटैक कर रही हैं। दूसरी तरफ, मीडिया उनको अधिक कवरेज दे रहा है। मीडिया उन्हें लगातार कांग्रेस के विकल्प के रूप में तैयार...

संस्मरण: विद्याभूषण द्विवेदी जिन्हें बिहार का सफदर हाशमी कहते थे
Post

संस्मरण: विद्याभूषण द्विवेदी जिन्हें बिहार का सफदर हाशमी कहते थे

लगभग दो महीने रहने के पश्चात 16 जुलाई, 1996 को विद्याभूषण द्विवेदी वापस दिल्ली जा रहे थे। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (NSD) का प्रथम वर्ष पूरा करने के पश्चात वे गर्मी की छुट्टियों में पटना आए थे। पटना जंक्शन के प्लेटफॉर्म न. 2 पर उनके चाहने वाले उन्हें विदा करने पहॅंचे थे। खासी संख्या में प्रेरणा...

फिदेल कास्त्रो की पुण्यतिथि: अगर क्यूबा गिरा तो हम सब गिर जाऐंगे
Post

फिदेल कास्त्रो की पुण्यतिथि: अगर क्यूबा गिरा तो हम सब गिर जाऐंगे

आज 25 नवम्बर है। पांच वर्ष पूर्व आज ही के दिन क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति तथा लैटिन अमेरिका सहित समूची दुनिया में क्रांतिकारी शक्तियों के प्रतीक पुरुष फिदेल कास्त्रो का नब्बे साल की उम्र में निधन हो गया था। फिदेल कास्त्रो के बाद क्यूबा में साम्रजावादी ताक़तें खुले रूप से वहां की कम्युनिस्ट सरकार को...

आर्यन केस में नया मोड़, गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, खाली कागज पर जबरन साइन करवाया
Post

आर्यन केस में नया मोड़, गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, खाली कागज पर जबरन साइन करवाया

बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से संबंधित मुंबई क्रूज ड्रग्स केस नया मोड़ आ गया है। फरार किरण वी. गोसावी के बॉडीगार्ड प्रभाकर सैल ने एक नोटरीकृत हलफनामे में चौंका देने वाले खुलासे किए हैं। ऑर्थर रोड जेल में बंद आर्यन खान को लेकर किरण गोसावी के बॉडीगार्ड ने खुलासा किया है...

महात्मा गाँधी के रास्तों पर चलकर ही आदर्श भारत और शराबबंदी का मार्ग प्रशस्त
Post

महात्मा गाँधी के रास्तों पर चलकर ही आदर्श भारत और शराबबंदी का मार्ग प्रशस्त

विश्व में अनेक महापुरुष अवतरित हुए हैं जिनकी शिक्षा ने संसार के प्रत्येक जनमानस को प्रभावित किया है। उनके विचार आज भी प्रासंगिक हैं। भारतीय सामाजिक परिदृश्य में महात्मा गाँधी के विचारों ने आमजन के मन-मस्तिष्क पर अमिट छाप छोड़ी है। गाँधी भारतीय परिवेश में हमेशा प्रासंगिक रहे हैं। उनके विचारों से प्रेरणा लेकर हजारों...

नियंत्रण खो रही कांग्रेस, अब केंद्रीय नेतृत्व को मजबूत होना होगा
Post

नियंत्रण खो रही कांग्रेस, अब केंद्रीय नेतृत्व को मजबूत होना होगा

कांग्रेस पार्टी भारत का सबसे पुराना राजनीतिक दल है, जिसने आजादी के बाद से लगातार लंबे समय तक केंद्र में सरकार चलाई है परन्तु हम देखते हैं कि इंदिरा गांधी के बाद से कांग्रेस पार्टी लगातार कमज़ोर होती आई है और आज इस स्तर पर पहुंच गई है कि हर नेता अपनी मर्जियां चला रहा...

फिल्म ‘तीसरी कसम’ : न कोई इस पार हमारा, न कोई उस पार
Post

फिल्म ‘तीसरी कसम’ : न कोई इस पार हमारा, न कोई उस पार

रेणु की चर्चित कहानी ‘तीसरी कसम उर्फ़ मारे गए गुलफ़ाम’ पर आधारित फिल्म ‘तीसरी कसम'(1966) की काफ़ी चर्चा होती रही है। फिल्म के निर्माता गीतकार शैलेन्द्र थे।उन्होंने बहुत उत्साह और जोख़िम से फिल्म का निर्माण कराया था, मगर अपेक्षित सफलता नहीं मिलने पर काफ़ी आहत भी हुए थे, जिसकी एक अलग कहानी है। कहानी और...