Author: Habib Ur Rahman (हबीब उर रहमान)

Home Habib Ur Rahman
‘डॉक्टर जी’ का फर्स्ट लुक आउट, आयुष्मान खुराना बोले- डॉक्टर बनकर प्राउड फील कर रहा हूं
Post

‘डॉक्टर जी’ का फर्स्ट लुक आउट, आयुष्मान खुराना बोले- डॉक्टर बनकर प्राउड फील कर रहा हूं

बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना की अपकमिंग फिल्म ‘डॉक्टर जी’ का फर्स्ट लूक हाल ही में सामने आया था। फिल्म की शूटिंग भोपाल में हो रही है। अपनी अपकमिंग फिल्म ‘डॉक्टर जी’ की शूटिंग कर रहे हैं। अब आयुष्मान ने खुद भी ‘डॉक्टर जी’ से अपने फर्स्ट लुक फोटो को सोशल मीडिया पर फैंस के साथ...

खुश रहना चाहते हैं, तो लोगों से ये 10 सवाल पूछना छोड़ दीजिए
Post

खुश रहना चाहते हैं, तो लोगों से ये 10 सवाल पूछना छोड़ दीजिए

वैसे तो सवाल करना आधा इल्म माना जाता है पर शर्त ये है कि यह किसी बात को समझने के नियत से पूछा जाए। लेकिन अगर सवाल पूछने का उद्देश्य कुछ और हो तो इसका मतलब है कि आप अपने जानने वाले को चोट पहुंचाना चाहते हैं और वह भी उसे बिना एहसास कराए। यह...

दिलीप कुमार और लता मंगेशकर के बीच 13 सालों तक बातचीत क्यों बंद रही?
Post

दिलीप कुमार और लता मंगेशकर के बीच 13 सालों तक बातचीत क्यों बंद रही?

यह 1957 की एक खूबसूरत दोपहर थी जब दिलीप कुमार फिल्म ‘मुसाफिर’ का एक सिन फिल्माने के बाद अपने यूनिट के साथ आराम करने बैठे हुए थे। पास में ही संगीतकार सलिल चौधरी थे, जो निर्देशक हृषिकेश मुखर्जी की पहली फिल्म के लिए अपने मधुर गीतों पर काम कर रहे थे। दिलीप साहब अपने धुन...

जब सलमान खान को B ग्रेड फिल्म के निर्देशक ने धक्के मारकर बाहर निकलवा दिया
Post

जब सलमान खान को B ग्रेड फिल्म के निर्देशक ने धक्के मारकर बाहर निकलवा दिया

एक सत्तरह-अठारह साल का खूबसूरत और आकर्षक नौजवान बगल में फाइल दबाए हुए, जिसमें उसके मॉडलिंग की कुछ तस्वीरें थीं; निर्देशक आनंद गिरधर के सामने बैठा था और अपने बालों को अपने हाथों से बीच-बीच में जुम्बिश दे रहा था। बी-ग्रेड फिल्मों के निर्देशक गिरधर ने युवक को ऊपर से नीचे तक देखा और फिर...

फिल्मों में मुसलमान और अरब को आमतौर पर बदमाश दिखाने की परम्परा क्यों रही है?
Post

फिल्मों में मुसलमान और अरब को आमतौर पर बदमाश दिखाने की परम्परा क्यों रही है?

बॉलीवुड में मुसलमान करैक्टर को आमतौर पर विलेन या बदमाश दिखाने की परम्परा रही है। हालांकि, हॉलीवुड जो अपने आपको सबसे मैच्योर कहता है इस दकियानूसी से परे नहीं है। कई लोगों को लगता है कि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और पेंटागन पर 9/11 हमले के बाद से ये शुरू होता है। लेकिन यह सोच सही...

हबीब-उर-रहमान की कहानी: चोर की माँ
Post

हबीब-उर-रहमान की कहानी: चोर की माँ

जब तेइसवां रोजा बीत गया तब उसे लगा कि अब देर हो रही है। हालाँकि, वह नहीं चाहता था कि इस बार ईद पर घर जाए। घर जाओ तो पचास तरह के झंझट, खासकर ट्रेन का टिकट लेना सबसे बड़ी मुसीबत का काम है। पहले लंबी लाइन में लगो और उसके कुछ ही सेकंड में...

नौशाद क्यों कहते थे- हमारे जमाने में दर्जी की इज्जत संगीतकार से अधिक थी
Post

नौशाद क्यों कहते थे- हमारे जमाने में दर्जी की इज्जत संगीतकार से अधिक थी

नौशाद साहब के हाथ में उनकी माँ का खत था, जिसमें उन्हें खबर सुनाई गई थी कि उनका रिश्ता अब तय कर दिया गया है और वह फौरन बंबई से लखनऊ का सफर शुरू कर दें। नौशाद साहब को यह बात काफी नागवार गुजरी कि उसकी माँ ने उनकी मर्जी के बगैर उनकी शादी करने...

आपने बीते साल की इन 10 हॉरर फिल्मों को नहीं देखा तो कुछ नहीं देखा
Post

आपने बीते साल की इन 10 हॉरर फिल्मों को नहीं देखा तो कुछ नहीं देखा

यूनानी दार्शनिक अरस्तू के मुताबिक, चेतन प्रक्रिया से डरावनी कहानियों और हिंसक नाटकों के माध्यम से नकारात्मक भावनाओं को खत्म किया जा सकता है। इन्हीं कारणों के चलते कला जगत के लोग डर और भय को अपनी रचनाओं में इस्तेमाल करते आए हैं। डर का अपना एक अलग मनोविज्ञान है और ये एक नकारात्मक क्रिया...

हॉलीवुड की 12 फिल्में जो कॉन्ट्रोवर्सियल कंटेंट के कारण प्रतिबंध की शिकार हो गईं
Post

हॉलीवुड की 12 फिल्में जो कॉन्ट्रोवर्सियल कंटेंट के कारण प्रतिबंध की शिकार हो गईं

वैसे तो वैश्विक महामारी के चलते पूरे फिल्म उद्योग को तबाही सामना करना पड़ा है। बावजूद इसके साल का मूवी कैलेंडर उन फिल्मों से भरा है जिन्हें हमें जरूर देखनी चाहिए। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि जहां एक तरफ महामारी के कारण सिनेमा कल्चर खत्म होने के दहाने पर खड़ा...

अमजद खान ने ‘शोले’ के बाद सलीम-जावेद के साथ फिर कभी काम क्यों नहीं किया?
Post

अमजद खान ने ‘शोले’ के बाद सलीम-जावेद के साथ फिर कभी काम क्यों नहीं किया?

यह दास्तान है ‘दो इनकार’ की। जो अगर नहीं की जातीं, तो शायद बॉलीवुड का एक अलग नक्शा होता। और यह भी हो सकता है कि निगेटिव किरदारों में वह रुझान नहीं आते जो एक विलेन के रूप में देखने को मिलते हैं। शायद वह डर और दहशत दर्शक महसूस नहीं कर पाते जो खलनायक...