ओपिनियन

Home ओपिनियन

मुसलमान और अरब को आमतौर बदमाश फिल्मों में दिखाने की परम्परा

मुसलमान और अरब को आमतौर बदमाश फिल्मों में दिखाने की परम्परा

बॉलीवुड में मुसलमान करैक्टर को आमतौर पर विलेन या बदमाश दिखाने की परम्परा रही है। हालांकि, हॉलीवुड जो अपने आपको सबसे मैच्योर कहता है इस दकियानूसी से परे नहीं है। कई लोगों को लगता है कि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और पेंटागन पर 9/11 हमले के बाद से ये शुरू होता है। लेकिन यह सोच सही नहीं है। दरअसल, मध्य पूर्व...

मुसलमान और अरब को आमतौर बदमाश फिल्मों में दिखाने की परम्परा

मुसलमान और अरब को आमतौर बदमाश फिल्मों में दिखाने की परम्परा

बॉलीवुड में मुसलमान करैक्टर को आमतौर पर विलेन या बदमाश दिखाने की परम्परा रही है। हालांकि, हॉलीवुड जो अपने आपको...

पत्रकारिता और लोकतंत्र समर्थकों को न्यूजक्लिक पर हुए हमले की निंदा करनी चाहिए

पत्रकारिता और लोकतंत्र समर्थकों को न्यूजक्लिक पर हुए हमले की निंदा करनी चाहिए

मैं पत्रकारों पर हमले, कार्यकर्ताओं और लेखकों की गिरफ्तारी के बारे में पढ़ती रही हूँ और देख रही हूँ कि...

जयन्ती विशेष: एक मौलाना हसरत मोहानी भी थे!

जयन्ती विशेष: एक मौलाना हसरत मोहानी भी थे!

पाकिस्तान के करांची शहर में हसरत मोहानी नाम की एक बड़ी कॉलोनी है। वहाँ हसरत मोहानी नाम से एक बड़ी सड़क भी है। करांची में ही एक हसरत मोहानी मेमोरियल सोसाइटी है और एक हसरत मोहानी मेमोरियल लाइब्रेरी भी है।

मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनने में वामपंथियों की रही आत्मघाती भूमिका

मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनने में वामपंथियों की रही आत्मघाती भूमिका

अब भारत में वामपंथी राजनीति का पूरी तरह पराभव हो गया है। वामपंथी राजनीति पतन के जिस गर्त में डूब...

घटिया मनोरंजन का साधन बनती जा रही हैं समाचार वेबसाइट्स

घटिया मनोरंजन का साधन बनती जा रही हैं समाचार वेबसाइट्स

िंदी में वेब पत्रकारिता को शुरू हुए ज्यादा साल नहीं हुए हैं, पर प्राय: सभी बड़े-छोटे मीडिया समूहों ने अपनी वेबसाइटें शुरू कर दी हैं। इंटरनेट के प्रसार और इंटरनेट डाटा के लगातार सस्ता होते चले जाने के कारण वेबसाइटों की पहुंच भी लोगों तक लगातार बढ़ती जा रही है।

स्वामी सहजानन्द सरस्वती: स्वाधीनता आंदोलन की जमींदार विरोधी धारा के नायक

स्वामी सहजानन्द सरस्वती: स्वाधीनता आंदोलन की जमींदार विरोधी धारा के नायक

पटना से 30-35 किलोमिटर पश्चिम बिहटा आजकल इंडस्ट्रियल हब के रूप में परिणत होता जा रहा है। यहां आई.आई.टी बनकर...

Opinion ∣ बिहार की चुनावी राजनीति में वामपंथी दल

Opinion ∣ बिहार की चुनावी राजनीति में वामपंथी दल

बिहार के पिछले तीन दशकों के चुनावी इतिहास में तीनों प्रमुख कम्युनिस्ट पार्टियां, भाकपा, माकपा और भाकपा-माले (लिबरेशन) राजद के...