ओपिनियन

Home ओपिनियन

आर्यन केस में नया मोड़, गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, खाली कागज पर जबरन साइन करवाया

आर्यन केस में नया मोड़, गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, खाली कागज पर जबरन साइन करवाया

बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से संबंधित मुंबई क्रूज ड्रग्स केस नया मोड़ आ गया है। फरार किरण वी. गोसावी के बॉडीगार्ड प्रभाकर सैल ने एक नोटरीकृत हलफनामे में चौंका देने वाले खुलासे किए हैं। ऑर्थर रोड जेल में बंद आर्यन खान को लेकर किरण गोसावी के बॉडीगार्ड ने खुलासा किया है कि सादा कागज पर साइन...

आर्यन केस में नया मोड़, गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, खाली कागज पर जबरन साइन करवाया

आर्यन केस में नया मोड़, गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, खाली कागज पर जबरन साइन करवाया

बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से संबंधित मुंबई क्रूज ड्रग्स केस नया मोड़ आ गया है। फरार...

महात्मा गाँधी के रास्तों पर चलकर ही आदर्श भारत और शराबबंदी का मार्ग प्रशस्त

महात्मा गाँधी के रास्तों पर चलकर ही आदर्श भारत और शराबबंदी का मार्ग प्रशस्त

विश्व में अनेक महापुरुष अवतरित हुए हैं जिनकी शिक्षा ने संसार के प्रत्येक जनमानस को प्रभावित किया है। उनके विचार...

नियंत्रण खो रही कांग्रेस, अब केंद्रीय नेतृत्व को मजबूत होना होगा

नियंत्रण खो रही कांग्रेस, अब केंद्रीय नेतृत्व को मजबूत होना होगा

कांग्रेस पार्टी भारत का सबसे पुराना राजनीतिक दल है, जिसने आजादी के बाद से लगातार लंबे समय तक केंद्र में...

फिल्म ‘तीसरी कसम’ : न कोई इस पार हमारा, न कोई उस पार

फिल्म ‘तीसरी कसम’ : न कोई इस पार हमारा, न कोई उस पार

रेणु की चर्चित कहानी ‘तीसरी कसम उर्फ़ मारे गए गुलफ़ाम’ पर आधारित फिल्म ‘तीसरी कसम'(1966) की काफ़ी चर्चा होती रही...

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की वैचारिक दृष्टि

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की वैचारिक दृष्टि

रामधारी सिंह दिनकर के दृष्टिकोण को परस्पर दो प्रमुख विचारधाराओं के परिप्रेक्ष्य में रखकर समझा जा सकता है। उनके दृष्टिकोण...

जयंती विशेष: समय की सलीबों पर राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’

जयंती विशेष: समय की सलीबों पर राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’

मौजूदा समय में दिनकर की ‛राष्ट्रवाद’ संबंधी समझ को दृढ़ता के साथ रेखांकित करने की जरूरत है क्योंकि हिंदुत्ववादी शक्तियां...

छुआछूत और जातिवाद पर आधारित बिमल रॉय की फिल्म ‘सुजाता’ क्यों देखनी चाहिए

छुआछूत और जातिवाद पर आधारित बिमल रॉय की फिल्म ‘सुजाता’ क्यों देखनी चाहिए

अश्पृश्यता मानव समाज के लिए कलंक रही है। किसी व्यक्ति को जन्म के आधार पर हीन अथवा कमतर समझना जितना...

कार्यानन्द शर्मा: सोशलिस्ट से कम्युनिस्ट बनने वाला किसान नेता

कार्यानन्द शर्मा: सोशलिस्ट से कम्युनिस्ट बनने वाला किसान नेता

प्रख्यात किसान नेता कार्यानन्द शर्मा की 120 वीं जयन्ती-17 अगस्त, के अवसर पर। भाग-2 बड़हिया टाल के संघर्ष का काल...

कम्युनिस्ट किसान नेता जिसने गांधी हत्या की भविष्यवाणी की थी

कम्युनिस्ट किसान नेता जिसने गांधी हत्या की भविष्यवाणी की थी

आज प्रख्यात किसान नेता कार्यानन्द शर्मा की 120वीं जयंती है। बिहार के पुराने मुंगेर व सन्थाल परगना जिले को अपना...

वर्तमान और भविष्य के बीच संघर्ष का नाम है क्रांति- फिदेल कास्त्रो

वर्तमान और भविष्य के बीच संघर्ष का नाम है क्रांति- फिदेल कास्त्रो

आज लैटिन अमेरिकी महादेश के विश्विविख्यात क्रांतिकारी फिदेल कास्त्रो का जन्म 95 वां दिन है। पिछले दिनों जिस ढंग से...

फिल्म ‘बंदिनी’ : मेरे साजन हैं उस पार, मैं मन मार, हूँ इस पार

फिल्म ‘बंदिनी’ : मेरे साजन हैं उस पार, मैं मन मार, हूँ इस पार

मानवता और प्रेम मनुष्य मात्र की सहजवृत्ति है, मगर मातृत्व की अतिरिक्त क्षमता के कारण और उससे जनित जैविक-मनोवैज्ञानिक कारणों...