वायरस से बचाएगा गिलोय का काढ़ा, इम्यूनिटी क्षमता बढ़ाने में है बेहद कारगर

वायरस से बचाएगा गिलोय का काढ़ा, इम्यूनिटी क्षमता बढ़ाने में है बेहद कारगर

विश्वभर में कोरोना का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। जैसे-जैसे संक्रमण बढ़ रहा है वैसे-वैसे ही शरीर की इम्युनिटी क्षमता बढ़ाने वाली चीजों का डिमांड बढ़ता जा रहा है। ऐसे में हर तरह एक औषधि की बात ही नहीं मांग भी बढ़ गई है। वो है गिलोय। गिलोय में कई औषधीय गुण है। इन गुणों के कारण ही आयुर्वेद में इसे अमृता भी कहा जाता है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में गिलोय के बारे में बहुत सारी फायदेमंद बातें बताई गई हैं।

ऐसे तो गिलोय के पत्ते स्वाद में कसैले, कड़वे और तीखे होते हैं। लेकिन इसके चमत्कारिक लाभ हैं। गिलोय के उपयोग से वात-पित्त और कफ को ठीक किया जा सकता है। बुखार उतर जाता है। यह पचने में आसान होती है। भूख बढ़ाती है। इसके उपयोग से डायबिटीज, कुष्ठ और पीलिया रोग में भी लाभ होता है। इसके साथ ही बुखार, उलटी, सूखी खांसी, हिचकी, बवासीर, टीबी, मूत्र रोग सभी में रामबागण का काम करती है।

इतना ही नहीं महिलाओं में शारीरिक कमजोरी की स्थिति में, पीरियड सही से न होने पर इसके सेवन से बहुत लाभ होता है। गिलोय का आप चाहे तो तना खा सकते हैं। मार्केट में जूस ऐबलेबल है आप उसे पी सकते हैं। लेकिन अगर आप इसका काढ़ा बनाकर पीये तो यह ज्यादा असरदार होगा। गिलोय का काढ़ा बनाना बहुत ही आसान है।

ये भी पढ़ें: क्या होता है ब्रेन स्ट्रोक? इसका आप कैसे कर सकते हैं पहचान!

आइए जानते हैं काढ़ा बनाने का तरीका-

सबसे पहले आप गिलोय की चार इंच मोटी डंडी लें। अब इसे एक-एक इंच के छोटे टुकड़ों में काट लें इन टुकड़ों को अच्छी तरह से कूट लें। अब एक लीटर पानी एक भगोने में डाल कर उबालें। उबलते हुए पानी में कुटी हुई गिलोय डाल दें।

अब इसी में चार-पांच साबुत काली मिर्च और छह-सात लौंग, एक छोटी इलायची, चुटकी भर दालचीनी पाउडर और चुटकी भर हल्दी भी डाल दें। तुलसी की कुछ 8-10 पत्तियां भी डाल दें। अगर आपके पास सौंठ पाउडर है तो दो चुटकी डाल दें। न हो तो कोई बात नहीं इसकी जगह थोड़ी-सी अदरक कूट कर डाल दें।

ये भी पढ़ें: बाइपोलर डिसऑर्डर या मैनिक डिप्रेशन क्या है? जानें लक्षण और इलाज के तरीके

सभी मिश्रण को धीमी आंच पर तब तक उबालें, जब तक पानी पौन लीटर न रह जाए। इसके बाद हल्का सा ठंडा होने पर इसे छान कर एक थर्मोस्टील के फ्लास्क में भर लें और सुबह-शाम परिवार के सभी लोगों को एक-एक गिलास काढ़ा पीने को दें। अगर आप इसे खाली पेट लेंगे तो ज्यादा बेहतर है।

अगर इसका स्वाद आपको और भी अच्छा करना है तो आप चाहे तो इसमें थोड़ा-सा काला नमक और थोड़ा नींबू का रस डाल दें। इससे इसका स्वाद बहुत अच्छा हो जाता है कि बच्चे भी आसानी से पी लेते हैं। इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि जब भी इस काढ़े को पीये यह हमेशा हल्का गर्म रहे। खुद को और अपने परिवार को हमेशा स्वस्थ रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.